तीन तलाक/ ट्रिपल तलाक पर निबंध (Essay on Triple Talaq) For SSC MTS TIER-II

MTS PAPER 2 का आप सभी का Admit Card आ चूका है जो रह गए हैं अपने अपने Regional site से download कर लेंगे ! Essay & Letter में कौन कौन से Topic आपके Exam में पूछे जा सकते उस से पहले एक नज़र Previous year papers पर डालते हैं –
2013 MTS Paper 2 में आपके पास 6 Option थे और इन टॉपिक पर Essay & Letter लिखने को आया था

तीन तलाक/ ट्रिपल तलाक पर निबंध सबसे निचे जाके  पढ़े 
(1) BOOK FAIR
(2) DIWAALI
(3) TELEVISION
(4) YOUR FIRST TRAIN JOURNEY
(5) YOUR FAVOURATE GAME
(6) CENSUS 2011

(1) Write an application to the principal of your college for scholarship sanction
(2) Letter to editor for controlling pollution
(3) Letter to your father for apologizing your mistake.
(4) Letter to bank manger for closing a bank account .
(5) Letter to your friend for asking money from him .
(6) Letter to chairman of your city for maintaining drinking water system
2014 के मुझे सारे Questions नहीं मिल पाए हैं फिर भी जो मिले हैं वो नीचे हैं
(1) Women Empowerment
(2) Technology development in India
(3) Your favorite Book
Letter : To the authorities for nuisance by the loud – speaker

CHSL 2015
ESSAY : Swachh Bharat Mission : [ 250 Words ]
LETTER Writing – Write a letter to the Sports Secretary about the assessment of performance of India in RIO Olympic 2016 and suggestion to improve the performance in next Olympic. [200 WORD ]

CHSL 2016
ESSAY : “Beti Bachao Beti Padhao”
LETTER : Write to your friend explaining him about Digital India Initiative.

CGL 2016
ESSAY : In the event of an earthquake, for your safety what u should do and what you should not do. [ 250 Words ]
LETTER : : Assuming that you are Suresh/Seema, Write a letter to your younger brother Naresh, highlighting the distinct benefits and shortcomings of Computer Based Recruitment test, and what will be the future shortfall of it.[ 150 Words ]

SSC TREND को देखते हुए जो आपके एग्जाम में जो क्वेश्चन आ सकते हैं वो नीचे रहे बाकी आपको 5-5 option मिलेंगे जिसमे से केवल 1 ही करना होगा
ESSAY
(1) प्रदुषण के प्रभाव / प्रदुषण की समस्या
(2) दहेज़ प्रथा एक अभिशाप
(3) बेरोजगारी की समस्या
(4) आतंकवाद की समस्या, कारण और समाधान
(5) प्रधानमन्त्री जन धन योजना
(6) आधुनिक संचार क्रांति / डिजिटल इंडिया
(7) बाढ़ का दृश्य या सड़क दुर्घटना का दृश्य पर निबन्ध
(8) स्वच्छ भारत अभियान /मेक इन इंडिया
(9) भ्रष्टाचार
(10) विज्ञान – वरदान या अभिशाप / जनसंख्या, समस्या और शिक्षा

LETTER
(1) सम्पादक को बिजली संकट के लिए पत्र / पुलिस की लापरवाही के संबंध में एक शिकायती पत्र / मोहल्ले में चोरी और लूट की छोटी घटनाओ के लिए पत्र लेखन
(2) शिकायती पत्र : पानी की समस्या पर नगरपालिका को पत्र
स्वास्थ्य अधिकारी को अपने मोहल्ले में गंदगी के विषय में पत्र / जिला अधिकारी को पत्र सड़क पर किये जा रहे अतिक्रमण के सम्बन्ध में /बिजली आपूर्ति की समस्या के लिए पत्र / अपने शहर में परीक्षा दिनों में ध्वनि विस्तारक यन्त्रों के प्रयोगों पर प्रतिबन्ध लगाने हेतु जिलाधीश को शिकायती पत्र ।पोस्टमास्टर को एक शिकायती पत्र अनियमित डाक के सम्बन्ध में ।
(3) आवेदन पत्र : प्रधानाचार्य को छात्रवृति के लिए आवेदन पत्र /शुल्क की माफी के लिए प्रधानाचार्य को प्रार्थना पत्र
(4) निजी / व्यक्तिगत या पारिवारिक पत्र : अपने मित्र को उसकी सफलता पर बधाई पत्र /मित्र को जन्मदिन पर बधाई पत्र /पिता द्वारा पुत्र को समय के सदुपयोग पर पत्र /छोटे भाई को कुसंगति से बचने के लिए पत्र / अपने मित्र के पिता जी की मृत्यु पर सवेदना प्रकट करते हुए पत्र लिखिए / छोटे भाई को किसी विषय के बारे में जानकारी देने के लिए पत्र !

आप सब इतना तैयार कर लीजिये आपको एग्जाम में काफी क्वेश्चन इसमें से मिल जाएंगे और वहाँ आपको ऑप्शन भी मिलेगा तो कुल मिला करके आपके लिए आसान होगा !
निबंध और लेटर में से क्या लिखना चाहिए तो मेरा सुझाव लेटर लिखने पर है क्योंकि उतने ही समय में आप निबंध के लिए जितना सोचेंगे उस से कम लेटर लिखने के लिए सोचना पड़ेगा और इसका एक फिक्स फॉर्मेट होता है ! आपका format बिलकुल सटीक है तो एग्जामिनर कहीं से भी आपके मार्क्स नहीं काट सकते !
कुछ गलतिया जो आप लोग नहीं करंगे
(१) गलत फॉर्मेट : परीक्षा भवन , नयी दिल्ली – ११०००७
सही फॉर्मेट : परीक्षा भवन
नयी दिल्ली ११०००७ ( नयी दिल्ली और कोड के बीच में आपको कुछ भी नहीं लगाना है )
ध्यान रहे आपको कहीं भी कॉमा या पूर्ण विराम नहीं लगाना है !
(२) गलत फॉर्मेट : दिनांक : २८ जनवरी २०१८
सही फॉर्मेट : २८ जनवरी , २०१८ ( दिनांक शब्द नहीं लिखना है )
इंग्लिश के स्टूडेंट ऐसे लिखेंगे : 28th January 2018
2018 के बाद कोई कॉमा पूर्ण विराम नहीं
(३ ) विषय Subject लिखना मत भूलियेगा ( अनौपचारिक पत्र Informal लेटर, में नहीं लिखना है )
(३) सेवा में फिर कॉमा दीजिये : सेवा में ,
To ,
रेस्पेक्टेड सर ,
(४) अलग – अलग , माता -पिता लिखना है तो एक बोस में [ अलग ] दूसरे बॉक्स में [ – अलग ]
[माता] [ -पिता] ऐसे !
(५) सबसे नीचे आपका भवदीय फिर कॉमा फिर उसके नीचे क , ख , ग
आपका भवदीय,
क ख ग
Your faithfully ,
ABC
* ध्यान रहे आपको पूरे फॉर्मेट में कॉमा ( , ) का प्रयोग बस ऊपर introduction ” सेवा में ” “प्रिय मित्र” के आगे और सबसे नीचे conclusion “आपका भवदीय” के आगे लगाना है और कहीं नहीं ! बाकी Main content जैसे आप लिखते हैं comma, full stop पूर्ण विराम अर्ध विराम का प्रयोग करके वैसे ही लिखेंगे !
* Short Form जैसे E.V.M. , P.M.J.D.Y. पूरा एक बॉक्स में लिखेंगे हिंदी वाले अभ्यर्थी भाषा में न लिख करके हिंदी भाषा में ऐसे लिखेंगे : इ .वी. एम. !
*हिंदी वाले अभ्यर्थी इंग्लिश नंबर का प्रयोग बिलकुल नहीं करेंगे आपको ऐसे नंबर लिखना है
१,२,३,४,५,६,७,८,९,
आशा करता हूँ आपके संदेह काफी दूर हो गए होंगे फिर भी कोई doubt हो तो मुझे से पूछ सकते हैं ! बाकी ज्यादा टेंशन लेने की जरूरत नहीं है ! आपको बहुत ज्यादा उच्च दर्जे के Essay या लेटर लिखने को नहीं आएंगे क्योंकि एग्जाम आपका MTS का है !
मुस्कुराते रहिये !!

                                      तीन तलाक/ ट्रिपल तलाक पर निबंध (Essay on Triple Talaq)

तीन तलाक/ ट्रिपल तलाक पर निबंध (Essay on Triple Talaq)

क्या है तीन तलाक? क्या होता है ट्रिपल तलाक? यह मुसलमान समाज में तलाक लेने का वह जरिया है जिसमें मुस्लिम आदमी अपनी बीवी को तीन बार “तलाक” बोलकर अपनी शादी रद्द कर सकता है| तलाक का यह जरिया मुस्लिम पर्सनल लॉ के हिसाब से कानूनी है, फिर भी बहुत सारी मुस्लिम वर्ग की महिलाएं इसका विरोध करती है| तीन तलाक के वजह से मुस्लिम महिलाओं को डर डर के रहना पड़ता है, क्योंकि यह तीन शब्द उनकी जिंदगी बर्बाद कर सकते हैं | यह मानवीय हकों का उल्लंघन है, भारतीय कानून के हिसाब से स्त्री और पुरुष को दोनों को समान हक्क होते हैं| पर तीन तलाक के मामले में महिलाओं पर यह एक प्रकार से अन्याय होता है| तीन तलाक के तहत मुस्लिम आदमी अपनी बीवी को बोलकर या लिखकर तलाक दे सकता है और बीवी का वहां होना जरुरी भी नहीं होता है, यहां तक कि आदमी को तलाक के लिए कोई वजह भी लेनी नहीं पड़ती| आजकल के जमाने में तो तीन तलाक facebook WhatsApp पर भी दिया जाता है| तीन तलाक का पुरुषों पे ज्यादा प्रभाव नहीं होता पर उनकी बीवी पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव होता है| बच्चों की जिम्मेदारी, गुजारा करने के लिए पैसा कमाना, रहने के लिए घर, यह सब विपदाएं अचानक से उसके सामने आ जाती है| इस डर के चलते हुए बहुत सारी मुस्लिम महिलाएं शायद डर डर के अपनी जिंदगी गुजार देती है, वह कोई बगावत नहीं करती| महिलाएं अपने भारतीय मौलिक अधिकारों से वंचित रह जाती है| बहुत सारे मुस्लिम बहुमत होने वाले देशों में तीन तलाक का रिवाज खंडित किया है, और उन्होंने तलाक के कायदे वर्तमान परिस्थितियों के हिसाब से बदल दिए हैं| यहां तक कि अपना पड़ोसी देश पाकिस्तान में भी तीन तलाक की प्रथा खत्म कर दी गई है| भारत को भी समय के हिसाब से बदलना पड़ेगा, 21वी सदी में हम लोग महिलाओं को पीछे नहीं छोड़ सकते| ट्रिपल तलाक़ आज मूल अधिकार के जगह एक राजनैतिक मुद्दा बन रहां है| हाल ही में, वर्तमान सरकार लोकसभा के शीतकालीन सत्र में ट्रिपल तलाक़ बिल पारित करने मे सफल हुई| इस विधेयक के अंदर ट्रिपल तलाक़ लेना कानूनन अपराध होगा, जिसके लिए मुस्लिम पुरुष को ३ साल तक सजा हो सकती है| कुछ राजनितिक दलों ने इस बिल का विरोध भी किया| कांग्रेस जो मुख्य विरोधी पक्ष हे, उसने बिल का समर्थन किया, पर कुछ मुद्दों पर संशोधन की भी मांग की| लोकसभा में बीजेपी का बहुमत होने के कारण वह इस बिल को पारित कर पायी| यह बिल अभी राज्य सभा में पारित होना बाकी है| राज्य सभा में बीजेपी के पास बहुमत नहीं है, वहां पे इस बिल पर ज्यादा विरोध होने की आशंका है|

“मुस्लिम महिला (विवाह अधिकारों का संरक्षण) विधेयक” के तहत तीन तलाक़ गैर कानूनी है, इसके उल्लंघन पर मुस्लिम पुरुष को ३ साल की सजा हो सकती है| पुरुष को तलाक़शुदा महिला के रखरखाव के लिए पैसे भी देने होंगे| मुस्लिम महिलांओके के लिए यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है| समान अधिकार के तरफ यह एक बड़ा कदम है| मुस्लिम लॉ बोर्ड इस बिल के खिलाफ है, उनके हिसाब से यह बिल मुस्लिम धर्म के खिलाफ है| कहियोंका कहना है की यह बीजेपी की मुस्लिम मतदाता तोड़ने की निति है| विपक्षी दलों ने बिल में सुधार की मांग की और उनके मुद्दों पर भी विचार किया जाना चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमें विधेयक ही पेश नहीं करना चाहिए और भारतीय मुस्लिम महिलाओं को बुनियादी अधिकारोंसे वंचित रखना चाहिए। पिछले कुछ महीनों में तीन तलाक से पीड़ित महिलाएं कोर्ट में कैसे लड़ रही है| वह भारतीय न्याय संस्था से न्याय की मांग कर रही है| भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को गैर संवैधानिक करार दिया है| सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को जिम्मेदारी दी है कि जजमेंट के हिसाब से लॉ फ्रेमवर्क बनाई जाए तब तक ट्रिपल तलाक का उपयोग करना गैर संविधानिक है| सुप्रीम कोर्ट केस की प्रगति पर निगरानी रखेगी, और इससे जुड़े दूसरे प्रश्नोंपर मई के महीने मैं फैसला देगी|
निष्कर्ष (conclusion) पुरुष और स्त्री एक सामान बनाए गए हैं तो उनके हक भी एक समान होना चाहिए| धर्म, प्रथाए समय के अनुसार बदलनी चाहिए| महिलाओं के समान हक का महत्व हमें देश को, नई पीढ़ी को समझाना पड़ेगा, हमारे देश की आधी आबादी को हम पीछे रखके कभी भी प्रगति की ओर जा नहीं सकते| हमें ऐसे तीखे सवाल को उठाना पड़ेगा और उनको समझाना भी पड़ेगा| और यह हर धर्म पर लागू होता है| हमारी आशा है कि यह निबंध या जानकारी आपको आपके निबंध, भाषण, जॉब इंटरव्यू, ग्रुप डिस्कशन में काम आएगी| हमने इसमें तीन तलाक का इतिहास, कोर्ट के जजमेंट का विच्छेदन नहीं किया है. हमने यह कोशिश की इस महत्वपूर्ण विषय को सरल भाषा में समझाया जाए| निबंध के लिए टिप्स (Tips for Essay) 1. निबंध लिखन के बहुत सारे प्रकार होते हैं, कोई भी निबंध लिखने से पहले यह प्रकार जानना बहुत जरूरी होता है| निबंध का फॉर्मेट चुनने के बाद ही आप निबंध लिखना शुरु कीजिए| 2. निबंध लिखने से पहले 5 मिनट विषय के बारे में सोचिए और इसमें आपको कौन सी बात रखनी है, कौन से पॉइंट्स रखने हैं, उनको कैसे लिखना है यह सब सोचिए|
3. निबंध का एक बहुत प्रसिद्ध फॉर्मेट है उसे 5 पैराग्राफ ऐसे बोलते हैं| पहले पैराग्राफ में विषय की प्रस्तावना दी जाती है, अगले दो या तीन पैराग्राफ में निबंध के विषय पर टिप्पणी या विवरण देना होता है, और फिर आखिरी पैराग्राफ को कंक्लूजन या निष्कर्ष बोलते हैं, वहां पर आपको आपके निबंध का सार बताना होता है.
जय हिन्द
अच्छी लगे तो इसे share like comments जरुर करे
धन्यवाद्

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *