Biology ( Introduction) Notes For All Competitive Examination

परिचय (Introduction) :

विज्ञान की वह शाखा, जिसके अन्तर्गत विभिन्न जीवों का अध्ययन किया जाता है, जीव विज्ञान कहलाता है ।

          जीवों का अध्ययन एक वैज्ञानिक पद्धति से सबसे पहले अरस्तु (Aristotle) ने शुरु किए, इसलिए उन्हें जीव विज्ञान का जनक (Father of Biology) कहते हैं । परन्तु बायोलॉजी शब्द का प्रयोग लैमार्क तथा ट्रैविरेनस ने किया ।।

          सभी सजीवों को मुख्यतः दो भागों में विभक्त किये गये हैं- पदाप तथा जन्तु में । अत: जीव विज्ञान को मुख्यत: दो भागों में विभाजित किया जाता है ।

(i) वनस्पति विज्ञान (Botany)—इसके अन्तर्गत पदापों का अध्ययन किया जाता है ।।

(ii) जन्तु विज्ञान (Zoology)-इसके अन्तर्गत जन्तुओं का अध्ययन किया जाता है ।

जैव विज्ञान की अन्य शाखायें

(i) वर्गिकी (Taxonomy)-विभिन्न जीवों को उनके गुणों के आधार पर विभिन्न समूहों में व्यवस्थित करने की विधि को जैव वर्गीकरण कहते हैं तथा वर्गीकरण के अध्ययन को वर्गिकी कहते हैं ।

(ii) आकारिकी (Morphology)-जीवों के बाहरी स्वरूप और आकर के अध्ययन को आकारिकी कहते हैं ।

(iii) शारीरिकी (Anatomy)-जीवों के आंतरिक संरचनाओं के अध्ययन को शारीरिकी कंहते हैं ।

(iv)औत्तिकी (Histology)-जीवों के विभिन्न प्रकार के उत्तकों (Tissues) के अध्ययन को औत्तिकी कहते हैं ।

(v)कार्यिकी (Physiology)-जीवों के अंदर होने वाले विभिन्न क्रियाओं के अध्ययन को कार्यिकी कहते हैं।

(vi)सायटोलॉजी (cytology)-जीवों की कोशिकाओं की अध्ययन को सायटोलॉजी कहते हैं।

(vii)आनुवंशिकी (Genetics )-जीवों में होने वाले आनुवंशिकता तथा विभिन्नता के अध्ययन को आनुवंशिकी कहते हैं ।

(viii) पारिस्थितिकी ( Ecology)-वातावरण तथा वातावरण के साथ जीवों के संबंध के अध्ययन को पारिस्थितिकी कहते हैं ।

(ix)जीवाश्मिकी ( palaetology)-जीवाश्मों के अध्ययन को जीवाश्मिकी कहते हैं ।

(x) मानव विज्ञान (Anthropology)– मनुष्य के स्वभाव, उद्भव तथा विकास के अध्ययन को मानव विज्ञान कहते हैं ।

(xi) जीवाणु विज्ञान (Bacteriology)-जीवाणुओं के अध्ययन को जीवाणु विज्ञान कहते हैं ।

(xii) कीट विज्ञान ( Entomology)- कीट-पतंगों के अध्ययन को कीट विज्ञान कहते हैं।

(xiii) विषाणु विज्ञान (Virology)- विषाणुओं के अध्ययन को विषाणु विज्ञान कहते हैं ।

(xiv) कवक विज्ञान (Mycology)- कवकों के अध्ययन को कवक विज्ञान कहते हैं ।

(xv) शैवाल विज्ञान (phycology)- शैवालों के अध्ययन को शैवाल विज्ञान कहते हैं ।

(xvi) सर्प विज्ञान (0phiology)- सर्यों के अध्ययन को सर्प विज्ञान कहते हैं । ।

(xvii) मत्स्य विज्ञान (Ichthyology)- मछलियों के अध्ययन को मत्स्य विज्ञान कहते हैं ।

(xviii) पक्षी विज्ञान (Ornithology)- पक्षियों के अध्ययन को पक्षी विज्ञान कहते हैं ।

(xix)मधुमक्खी पालन (Apiculture )- मधुमक्खियों के पालन से। संबंधित अध्ययन को एपीकल्चर कहते हैं ।

(Xx) सेरीकल्चर ( Sericulture ) – रेशम के कीड़े के पालन से संबंधित अध्ययन को सेरीकल्चर कहते हैं ।

(xxi) पिसिकल्चर (Pisciculture)–मछली के पालन संबंधी अध्ययन को पिसिकल्चर कहते हैं।

(xxii) सिल्विकल्चर (Silviculture)-वन के विकास तथा उपयोग संबंधी अध्ययन को सिल्वीकल्चर कहते हैं ।

(xxiii) होर्टिकल्चर (Horticulture)-उद्यानों के अध्ययन को होर्टिकल्चर कहते हैं ।

(xxiv) डेन्ड्रोलॉजी (Dendrology)-वृक्षों एवं झाड़ियों के अध्ययन को डेन्ड्रोलॉजी कहते हैं ।

(xxy) इम्ब्रॉयोलॉजी (Embryology)-अण्डे के विकास तथा भ्रूण के निर्माण संबंधी अध्ययन को इम्ब्रॉयोलॉजी कहते हैं ।

(xxyi) भेषगुणज़ विज्ञान (Pharmacology)-दवा के निर्माण संबंधी अध्यय , को भेषगुणज विज्ञान कहते हैं ।

(xxvii) मैमोलॉजी (Mammology)-स्तनधारी जीवों के अध्ययन को मैमोलॉजी  कहते हैं । ।

(xxviii) मिरमीकोलॉजी (Myrmecology)-चींटियों के अध्ययन को । , मिरमीकोलॉजी कहते हैं ।

(xxix) ऑस्टियोलॉजी (Osteology)-अस्थियों तथा कंकाल के अध्ययन को ऑस्टियोलॉजी कहते हैं ।

(xxx) हिमैटोलॉजी (Heamatology)- रक्त संबंधी अध्ययन को हिमैटोलॉजी कहते हैं ।

(xxxi) कार्डियोलॉजी (Cardiology)-हृदय संबंधी अध्ययन को कार्डियोलॉजी कहते हैं ।

(xxxii) न्यूरोलॉजी (Neurology)-तंत्रिका तंत्र संबंधी अध्ययन को न्यूरोलॉजी कहते हैं ।

(xxxiii) सारकोलॉजी (Sarcology)-पेशियों के अध्ययन को सारकोलॉजी कहते हैं ।

(xxxiv)ब्रायोलॉजी (Bryology)-ब्रायोफाइटा के अध्ययन को ब्रायोलॉजी कहते हैं ।

(xxxv) एक्जोबायोलॉजी (Exobiology)-निर्वात या दूसरे ग्रहों के सूक्ष्म जीवों के अध्ययन को एक्जोबायोलॉजी कहते हैं । |

(xxxvi)लाइकेनालॉजी-लाइकेन के अध्ययन को लाइकेनोलॉजी कहते हैं ।

(Xxxvii) पोमोलॉजी (Pomology)-फलों के अध्ययन को पोमोलॉजी कहते  हैं ।

(xxxvii) स्पर्मोलॉजी-जीवों के अध्ययन को स्पर्मोलॉजी कहते हैं ।

Add a Comment