विश्व के प्रसिद्ध वैज्ञानिक और उनके अविष्कारों का संक्षिप्त वर्णन

0
2849
views

विश्व के प्रसिद्ध वैज्ञानिक और उनके अविष्कारों का संक्षिप्त वर्णन

अल्बर्ट क्लाइड – इन्होंने कैन्सर रोग के कारण व उसके उपचार से सम्बन्धित खोजें कीं. इस कार्य के लिए इन्हें 1974 में नोबेल पुरस्कार मिला है.

अलेक्जेण्डर फ्लेमिंग-इनका जन्म इंगलैण्ड में 1881 में हुआ था. इन्होंने प्रमुख एन्टीबायोटिक दवा ‘पैनिसिलिन‘ की खोज की. इनकी मृत्यु 1955 में हुई.

चार्ल्स डारविन-यह इंगलैण्ड के निवासी थे. इनका जन्म 1809 में तथा मृत्यु 1882 में हुई थी. इनकी प्रमुख देन ‘प्राकृतिक वरण का सिद्धान्त’ है.

डैनियल रदरफोर्ड-यह स्काटलैण्ड के वैज्ञानिक थे. इन्होंने 1772 में नाइट्रोजन की खोज की थी. ।

डीमित्रे मैण्डलीफ-यह आवर्त सारणी के जन्मदाता के नाम से जाने जाते हैं. इन्होंने पेट्रोलियम से सम्बन्धित उद्योगों की खोज की. यह एक रूसी नागरिक थे. इनका जन्म 1834 व मृत्यु 1901 में हुई. ।

एडवर्ड जेनर-इनका जन्म 1749 में ब्रिटेन में हुआ. इन्होंने सर्वप्रथम चेचक के टीके का आविष्कार किया. इनकी मृत्यु 1823 में हुई |

डॉ. एडवर्ड टेलर-यह एक अमरीकन वैज्ञानिक हैं, इन्होंने हाइड्रोजन बम का निर्माण किया है.

फ्रेडरिक गोवलैण्ड हॉपकिन्स-यह एक ब्रिटिश वैज्ञानिक हैं, इनका कार्य क्षेत्र बायोकैमिस्ट्री है. इन्होंने विटामिन D की खोज की थी जिसके लिए इन्हें 1929 में नोबेल पुरस्कार मिला. |

जी. हेनरी मोजले-इनका जन्म 1887 में ब्रिटेन में हुआ था. इन्होंने ‘परमाणु संख्या व ‘मोजले नियम’ का प्रतिस्थापन किया था. विभिन्न तत्वों के आवर्त सारणी के स्थान में संशोधन इसी नियम के आधार पर किया गया है. इनकी मृत्यु 1915 में हुई.

डॉ. गिहार्ड हर्जबर्ग– यह कनाडा के रहने वाले है. इन्होंने स्वतंत्र मूलकों से सम्बन्धित परमाणु व अणुओं की संरचना का प्रतिरूप दिया. इस कार्य के लिए इन्हें 1971 में नोबेल पुरस्कार मिला. |

जिराल्ड मोरिस एडिलमैन-यह . अमरीका के निवासी हैं. इन्होंने सर्वप्रथम ‘ब्लड प्रोटीन की संरचना’ की खोज की. इस कार्य के लिए 1972 में डॉ. रोडनी राबर्ट के साथ नोबेल पुरस्कार मिला है. प्रतिपादन किया. इन्हें प्रत्यावर्ती धारा का जनक भी कहा जाता है. इन्होंने विद्युत चुम्बकीय प्रेरण सम्बन्धी नियमों का प्रतिपादन किया.

रोजर बेकन— यह एक ब्रिटिश वैज्ञानिक थे इन्होंने बारूद का आविष्कार किया था.

रोनाल्ड रास-यह एक ब्रिटिश डाक्टर थे. इनका जन्म 1857 में व मृत्यु 1932 में हुई. इन्होंने सर्वप्रथम मलेरिया के कारण व उसके उपचार का पता लगाया. इस कार्य के लिए 1902 में इन्हें नोबेल पुरस्कार मिला.

रॉबर्ट बर्नस वुडवर्ड-यह अमरीका निवासी एक रसायनशास्त्री थे. 1965 में इन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

प्रो. एस. एस. जोशी– एक प्रसिद्ध भारतीय रसायनशास्त्री है, इन्होंने विद्युत क्षेत्र में नाइट्रोजन की भौतिक व रासायनिक क्रियाओं की खोज की.

विलियम रैम्जे-यह एक ब्रिटिश रसायनशास्त्री थे. इनका जन्म 1852 में व मृत्यु 1916 में हुई. इन्होंने हीलियम, नियोन, आर्गन आदि अक्रिय गैसों की खोज की. इस कार्य के लिए 1904 में इन्हें नोबेल पुरस्कार मिला,

डॉ. शान्तिस्वरूप भटनागर (18781955)- यह विज्ञान के क्षेत्र में भारत के जाने-माने व्यक्ति रहे हैं. आप वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के अध्यक्ष रहे हैं.

डॉ. हरगोविन्द खुराना-इनका जन्म 1922 में हुआ. भारत के मूल निवासी, परन्तु बाद में अमरीकी नागरिकता प्राप्त करने वाले वैज्ञानिक हैं, जिन्हें जेनेटिक कोड पर किए गए शोध कार्य पर नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इन्होंने कृत्रिम जीन का निर्माण भी किया था.

डॉ. बी.डी. नारा चौधरी– डॉ. नाग चौधरी ने परमाणु विज्ञान पर महत्वपूर्ण शोध कार्य किया है तथा साइक्लोट्रॉन के आविष्कार में डॉ. लारेन्स के सहयोगी रहे। हैं. यह साहा न्यूक्लियर इंस्टीट्यूट कलकत्ता के निदेशक भी रहे हैं.

आचार्य पी. सी. रॉय (1861-1944)– इन्होंने बंगाल कैमीकल्स एण्ड फार्मास्युटिकल्स वक्र्स लि. की स्थापना की. यह रसायन विज्ञान के प्रख्यात विद्वान थे.

नागार्जुन-सुविख्यात रसायनवेत्ता. बौद्धकाल में इन्होंने रसायन विज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किए, जो चीन में देखने को मिल जाते हैं.

डॉ. आत्माराम-विख्यात भारतीय वैज्ञानिक रासायनिक उद्योग भारत में स्थापित कराने में महत्वपूर्ण योगदान किया है, प्रतिपादन किया. इन्हें प्रत्यावर्ती धारा का जनक भी कहा जाता है. इन्होंने विद्युत चुम्बकीय प्रेरण सम्बन्धी नियमों का प्रतिपादन किया.

रोजर बेकन— यह एक ब्रिटिश वैज्ञानिक थे इन्होंने बारूद का आविष्कार किया था.

रोनाल्ड रास-यह एक ब्रिटिश डाक्टर थे. इनका जन्म 1857 में व मृत्यु 1932 में हुई. इन्होंने सर्वप्रथम मलेरिया के कारण व उसके उपचार का पता लगाया. इस कार्य के लिए 1902 में इन्हें नोबेल पुरस्कार मिला.

रॉबर्ट बर्नस वुडवर्ड-यह अमरीका निवासी एक रसायनशास्त्री थे. 1965 में इन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

प्रो. एस. एस. जोशी- एक प्रसिद्ध भारतीय रसायनशास्त्री है, इन्होंने विद्युत क्षेत्र में नाइट्रोजन की भौतिक व रासायनिक क्रियाओं की खोज की.

विलियम रैम्जे-यह एक ब्रिटिश रसायनशास्त्री थे. इनका जन्म 1852 में व मृत्यु 1916 में हुई. इन्होंने हीलियम, नियोन, आर्गन आदि अक्रिय गैसों की खोज की. इस कार्य के लिए 1904 में इन्हें नोबेल पुरस्कार मिला,

डॉ. शान्तिस्वरूप भटनागर (18781955)– यह विज्ञान के क्षेत्र में भारत के जाने-माने व्यक्ति रहे हैं. आप वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के अध्यक्ष रहे हैं.

डॉ. हरगोविन्द खुराना-इनका जन्म 1922 में हुआ. भारत के मूल निवासी, परन्तु बाद में अमरीकी नागरिकता प्राप्त करने वाले वैज्ञानिक हैं, जिन्हें जेनेटिक कोड पर किए गए शोध कार्य पर नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इन्होंने कृत्रिम जीन का निर्माण भी किया था.

डॉ. बी.डी. नारा चौधरी– डॉ. नाग चौधरी ने परमाणु विज्ञान पर महत्वपूर्ण शोध कार्य किया है तथा साइक्लोट्रॉन के आविष्कार में डॉ. लारेन्स के सहयोगी रहे। हैं. यह साहा न्यूक्लियर इंस्टीट्यूट कलकत्ता के निदेशक भी रहे हैं.

आचार्य पी. सी. रॉय (1861-1944)– इन्होंने बंगाल कैमीकल्स एण्ड फार्मास्युटिकल्स वक्र्स लि. की स्थापना की. यह रसायन विज्ञान के प्रख्यात विद्वान थे.

नागार्जुन-सुविख्यात रसायनवेत्ता. बौद्धकाल में इन्होंने रसायन विज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किए, जो चीन में देखने को मिल जाते हैं.

डॉ. आत्माराम-विख्यात भारतीय वैज्ञानिक रासायनिक उद्योग भारत में स्थापित कराने में महत्वपूर्ण योगदान किया है.

Thanks….